14.8.16

Storys and facts related to Nageshvar Jyotirling

चमत्कारों से भरी हैं इस ज्योतिर्लिंग की कहानियां, रुद्राक्ष जैसा दिखाई देता है शिवलिंग


नागेश्वर मंदिर, religion hindi news, rashifal news

द्वारिका के पूर्वोत्तर में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक नागेश्वर ज्योतिर्लिंग है। शिवपुराण के अनुसार, जो भी व्यक्ति श्रद्धा-भक्ति और समर्पण के भाव से इस ज्योतिर्लिंग की पूजा-अर्चना करता है, उसे संसार के सभी सुख मिलते हैं।
कैसे स्थापित हुआ नागेश्वर ज्योतिर्लिंग
कहा जाता है कि सुप्रिय नाम का एक वैश्य भगवान शिव का भक्त था। वह हर समय भगवान शिव की भक्ति में लगा रहता था। एक बार सुप्रिय नाव से कहीं जा रहा था, तभी अचानक दारुक नाम का राक्षस वहां आ गया। दारुक ने नाव पर सवार सभी लोगों को बंदी बना कर अपने बंदीगृह में डाल दिया। बंदीगृह में भी सुप्रिय भगवान शिव की भक्ति करता रहा। जब दारुक को इस बात का पता चला तो वह सुप्रिय को ऐसा करने से रोका, लेकिन सुप्रिय ने उसकी बात नहीं मानी और अपनी भक्ति में लीन रहा। इस बात से दारुक को बहुत गुस्सा आया और उसने अपने सेवकों को सुप्रिय का वध करने को कहा। सुप्रिय डरा नहीं और भगवान शिव की पूजा-अर्चना करता रहा। जैसे ही दारुक के सेवक सुप्रिय का वध करने पहुंचे, उस बंदीगृह के एक ऊंचे स्थान पर भगवान शिव प्रकट हुए और सुप्रिय को पाशुपतास्त्र भी दिया। उस पाशुपतास्त्र से सुप्रिय ने दारुक सहित सभी राक्षसों का वध कर दिया। मृत्यु के पहले दारुक अपनी मुक्ति के लिए भगवान शिव और माता पार्वती से प्रार्थना करने लगा। उसके प्रार्थना करने पर भगवान ने उस उसकी मुक्ति का और इस स्थान को उसी के नाम से प्रसिद्ध होने का वरदान दिया। सुप्रिय ने भगवान शिव से हमेशा के लिए इसी स्थान पर रहने की प्रार्थना की, जिसके फलस्वरूप भगवान शिव नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से उसी स्थान पर स्थित हो गए।

नागेश्वर मंदिर, religion hindi news, rashifal news

अपने आप ज्योतिर्लिंग दक्षिणमुखी हो गया

नागेश्वर मंदिर का ज्योतिर्लिंग दक्षिणमुखी है, जबकि गोमुख पूर्वमुखी। ऐसा होने के पीछे एक रोचक कथा प्रचलित है। कहा जाता है नामदेव नाम का एक भक्त भगवान शिव के सामने खड़ा होकर भजन कर रहा था। पीछे खड़े भक्तों ने उसे एक ओर हटकर भजन गाने को कहा, ताकि उन्हें भगवान शिव के दर्शन हो सके। भक्तों के ऐसा कहने पर नामदेव ने उनसे ऐसी दिशा के बारे में पूछा जहां भगवान शिव न हो, वह उस ओर खड़ा होकर भजन करता रहा। लोगों ने गुस्से में नामदेव को एक तरफ कोने में धकेल दिया। नामदेव वहीं कोने में खड़ा होकर भगवान शिव के भजन गाने लगा। थोड़ी देर में शिवलिंग का मुंह अपने आप उस ओर हो गया, जिस ओर खड़े होकर नामदेव भजन कर रहा था। यह देखकर सभी भक्त हैरान रह गए। तब से लेकर आज तक भगवान शिव का यह नागेश्वर ज्योतिर्लिंग दक्षिणमुखी ही है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, religion hindi news, rashifal news

रुद्राक्ष के जैसा दिखाई देता है यहां का शिवलिंग

यहां के शिवलिंग की आकृति बड़ी ही अद्भुत है। इस शिवलिंग पर छोटे-छोटे चक्कर खुदे हुए है, जिसकी वजह से यह शिवलिंग रुद्रक्ष के जैसे दिखाई देता है।

मंदिर परिसर में स्थापित भगवान शिव की मूर्ति, religion hindi news, rashifal news

भगवान शिव की विशाल मूर्ति भी है यहां

नागेश्वर मंदिर वास्तुशिल्प और खूबसूरती का एक बहुत अच्छा उदाहरण है। दारुक वन में प्रवेश करते ही भगवान शिव की एक मूर्ति दिखती है। यह मूर्ति लगभग साठ फीट ऊंची है। इसमें भगवान शिव ध्यान करने की मुद्रा में बैठे हुए हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, religion hindi news, rashifal news

यहां नहीं है शिव के सामने नंदी

नागेश्वर ज्योतिर्लिग की एक और विशेषता है। भगवान शिव के लगभग सभी मंदिरों में शिवलिंग के सामने उनके वाहन नंदी की मूर्ति स्थापित होती ही है, लेकिन नागेश्वर मंदिर बाकी मंदिरों से अलग है। यहां पर शिवलिंग के सामने नंदी की कोई प्रतिमा नहीं है। मुख्य मंदिर के पीछे नंदी का नंदिकेश्वर का नाम से एक अलग से मंदिर बना हुआ है।

मुख्य मंदिर के आस-पास है बारह ज्योतिर्लिंग

मुख्य मंदिर की चारों दिशाओं में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंग के छोटे-छोटे मंदिर बने हुए है। नागेश्वर मंदिर के एक बड़े भाग में भगवान शिव और पार्वती की बहुत ही सुंदर छवि स्थित है। उस छवि में माता पार्वती रुठी हुई नजर आती हैं और भगवान शिव शिव उन्हें शांत करने का प्रयास करते दिखाई देते हैं।


Share this

0 Comment to "Storys and facts related to Nageshvar Jyotirling"

Post a Comment